मुंबई में कोरोना के मरीजों की बढ़ रही संख्या को देखते हुए मुंबई मनपा ने एक बड़ा फैसला लिया है. मुंबई के अस्पताल हल्के संक्रमण वाले रोगियों के इलाज के लिए पांच सितारा होटलों का उपयोग करेंगे। निजी अस्पताल अधिक से अधिक मरीजों के इलाज के लिए चार या पांच सितारा होटलों से समझौता करेंगे। जिन मरीजों की स्थिति गंभीर नहीं हैं, उन्हें होटलों में स्थानांतरित किया जाएगा।
मनपा से मिली जानकारी के अनुसार गुरुवार से एक निजी अस्पताल के हिस्से के तौर पर दो होटलों में काम करना शुरू कर दिया गया है। मरीजों को होटलों में स्थानांतरित करने से पहले उपचार करनेवाले डॉक्टरों की सहमति आवश्यक होगी। होटल निजी अस्पतालों का विस्तारित हिस्सा होंगे। कोरोना के मरीजों के लिए होटल के २० कमरे होंगे, जिनमें डॉक्टर, नर्स, दवाएं और एंबुलेंस सेवाएं २४ घंटे उपलब्ध रहेंगी। इस सुविधा के लिए अस्पताल ४ हजार रुपए तक का शुल्क ले सकते हैं। यदि मरीज के साथ कोई रहेगा तो यह शुल्क ६ हजार रुपए तक होगा। अस्पतालों में बेड की कमी के कारण यह निर्णय लिया गया है। जिन मरीजों को कोरोना के लक्षण नहीं हैं, वे भी इस सुविधा का उपयोग कर सकते हैं।