गणतंत्र दिवस पर मुंबई उपनगर के विलेपार्ले में साहित्यिक संस्था काव्यकुंज की १११७वीं मासिक काव्यगोष्ठी अंजली टूर्स ऐण्ड ट्रावेल्स विलेपार्ले ईस्ट में डॉ राज बुंदेली की अध्यक्षता, डॉ जे पी बघेल के संचालन व मुख्य अतिथि हौंसिला प्रसाद अन्वेषी, आलोक दूबे, त्रिलोचन सिंह अरोरा की गरिमामयी में संपन्न हुई, जिसमें कई दिग्गज कवियों ने भी देशभक्ति से ओतप्रोत रचनाओं की बयार सी बहा दिया।
गौरतलब है कि शिवप्रकाश जौनपुरी के मार्गदर्शन अनिल गुप्त के संयोजन में मुम्बई महानगर व आस पास से पधारे सूर्यकांत शुक्ला, मुरलीधर पाण्डेय,रामजी कनौजिया, बी एल कुँवारा, अल्हड़ असरदार, रमेश श्रीवास्तव, शिवकुमार वर्मा, निर्मल नदीम, कुलदीप सिंह दीप, सौरभ दत्ता, एड.अनिल शर्मा, एस के शर्मा, आलोक दूबे, डॉ राज बुंदेली, हौंसिला प्रसाद अन्वेषी, डॉ जे पी बघेल, जवाहरलाल निर्झर, त्रिलोचन सिंह अरोरा, वाचस्पति तिवारी, श्याम अचल प्रियात्मीय, कल्पेश यादव,जाकिर हुसैन रहबर कवयित्री डॉ मृदुला तिवारी, संगीता पाण्डेय, शिखा गोस्वामी, अलका पाण्डेय, रेशमा अकील आदि कवि-कवयित्रियों ने देशभक्ति से ओत प्रोत रचनाओं से रचनायें प्रस्तुत कर उपस्थित गणमान्यों को मंत्रमुग्ध करके गणतंत्र दिवस की शाम को खुशनुमा बना दियाा।
      आयोजन की शुरुआत जहां गीतकार रामजी कनौजिया द्वारा सरस्वती वंदना से हुई, वहीं अपने अध्यक्षीय भाषण में सुप्रसिद्ध वीररस कवि डॉ. राज बुंदेली ने वर्तमान माहौल पर प्रकाश डालते हुए कवियों की रचनाओं पर प्रकाश डाला और शुभकामनाएं दी। दिनेश मंडल ने सभी का स्वागत सम्मान किया और अंत में संस्था के संयोजक अनिल गुप्त ने सभी को गणतंत्र दिवस की बधाई देते हुए आभार व्यक्त किया।
Advertisement https://youtube.com/@BMB-TIMES